mecee®eej meej
efoveebkeÀ : 18/07/2019 4:10:43 PM

Meer<e&keÀ बीएसई ने पूंजी जुटाने में एसएमई को प्रोत्साहित करने के लिए हरियाणा सरकार के उद्योग तथा वाणिज्य विभाग के साथ समझौता ज्ञापन किया

efJeJejCe
मुंबई, 17 जुलाई 2019: 6 माइक्रोसेकंड्स की गति से विश्व का सबसे तेज एक्सचेंज तथा भारत का प्रथम एक्सचेंज बीएसई ने पूंजी जुटाने हेतु माइक्रो, स्मॉल तथा मध्यम क्षेत्र की कंपनियों को प्रोत्साहन देने तथा समर्थन देने के लिए हरियाणा सरकार के उद्योग तथा वाणिज्य विभाग के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किये हैं। हरियाणा सरकार से श्री देवेन्दर सिंह, आईएएस, अतिरिक्त चीफ सेक्रेटरी, इंडस्ट्रीज तथा बीएसई के बीएसई एसएमई तथा स्टार्टअप्स के हेड श्री अजय ठाकुर ने समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किये हैं। डॉ. यश गर्ग, आईएएस तथा हरियाणा सरकार के उद्योग तथा वाणिज्यिक निदेशक इस अवसर पर उपस्थित थे।

इस करार के तहत हरियाणा सरकार तथा बीएसई का इरादा एसएमई कंपनियों को अपना बीएसई-एसएमई प्लेटफोर्म उपलब्ध कराना है, जिसके जरिए छोटी कंपनियां सूचीबद्ध हो सके, उत्पादक पूंजी जुटा सके, जिससे वे बड़ी कंपनियों की तुलना में अपनी उपस्थिति तथा विश्वसनीयता को बढ़ा सकेगी।

इस अवसर पर बीएसई के प्रबंध निदेशक तथा सीईओ श्री आशिषकुमार चौहान ने कहा कि, ``एमएसएमई हरियाणा राज्य के आर्थिक प्रदर्शन में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। राज्य में 1 लाख से अधिक संचालित एमएसएमई प्रमुख रोजगारों का बड़ा स्रोत है। एमएसएमई के समक्ष विभिन्न चुनौतियों में से एक यह है कि उसे वित्त उपलब्ध नहीं हो रहा तथा उनको ऋण पर अपनी निर्भरता बढ़ानी पड़ती है, जिसके परिणाम स्वरूप पूंजी संरचना में विसंगति आती है तथा नकदी प्रवाह में बाधा उत्पन्न होती है। इस एसोसिएशन के जरिए हम पूंजी जुटाने तथा बढ़ाने हेतु एसएमई के लिए अनुकुल पारिस्थितिकी तंत्र प्रदान करना चाहते हैं।''

बीएसई एसएमई प्लेटफोर्म पर सूचीबद्धता लेने के जरिए हरियाणा में एसएमई को निम्नलिखत लाभ मिलेंगेः

- एसएमई को विस्तार से अधिग्रहण द्वारा अपना कारोबार बढ़ाने के लिए पूंजी वित्त पोषण के अवसर मिलेंगे।

- पूंजी वित्त पोषण से ऋण भार को कम किया जा सकेगा, जिससे वित्त पोषण लागत तथा बैलेंस शीट मजबूत होगी।

- सूचीबद्धता से निवेशकों की संख्या बढ़ेगी, जिससे प्राइवेट प्लेसमेंट सहित सेकंडरी पूंजी वित्त पोषण प्राप्त करने में सहायता मिलेगी।

- एसएमई को अधिक मीडिया कवरेज मिलेगा तथा उनकी विश्वसनीयता बढ़ने से उनके शेयरों के मूल्य में वृद्धि होगी।

- कंपनी के स्वामित्व में कर्मचारियों की भागीदारी बढ़ेगी तथा वे कंपनी के शेयरधारक के रूप में अधिक लाभ प्राप्त कर सकेंगे।

- वित्तीय प्रणाली के दो स्तंभ यांनी बैंकिंग तथा पूंजी बाजार के आधार पर एसएमई क्षेत्र का विकास होगा।


efJemle=le peevekeÀejer (Debûespeer)
mHe<ìerkeÀjCeë efnboer Yee<ee ceW efkeÀ³ee ie³ee DevegJeeo efnboer Yeeef<e³eeW keÀer megefJeOee kesÀ GÎsM³e mes Òemlegle efkeÀ³ee nw~ cetue ªHe mes Debûespeer JesyemeeFì www.bseindia.com mes ÒeeHle DeefOekeÀebMe peevekeÀeefj³eeW kesÀ DeeOeej Hej nceves ³eLeemebYeJe Meg× DevegJeeo keÀjves keÀe Òe³eeme efkeÀ³ee nw, efHeÀj Yeer DevegJeeo ceW $egefì ³ee keÀceer mebYeeefJele nw~ ³en efnboer JesyemeeFì SkeÀ DeefleefjkeÌle megefJeOee kesÀ ªHe ceW nw Deewj pees ueesie Fme megefJeOee keÀe GHe³eesie keÀjW, Jen GkeÌle Kegueemee keÀes O³eeve ceW jKekeÀj nj peesefKece mJeerkeÀejles ngS DeHeveer efpeccesoejer Hej keÀjW~